जानिये होली का इतिहास the-history-of-holi

indian-fetival-holi-historyहोली का पर्व आते ही रंग और गुलाल की आभा गालों पर खुद ब खुद खिल जाती है। साल 2015 की होली इस बार मार्च महीने की 6 तारीख को पड़ रही है।
वैसे नौकरीपेशा लोगों को जयादा ख़ुशी होगी क्योंकि कि होली इस बार हफ्ते के बीच में पढ़ने से उन्हे वर्किंग डे के अलावा और एक छुट्टी मिल सकेगी ।

 

शुक्रवार यानी होलिका दहन का उत्सव है और उसके अगले ही दिन मतलब शनिवार को लोग रंग खेल कर अपनी खुशी का इजहार करेंगे। होली का पर्व मनाने के पीछे कथा बहुत पुरानी है लेकिन आज के समय में भी उतनी ही प्रांसगिक है जितने पहले हुआ करती थी।

होली का त्योहार राक्षसराज हिरण्यकश्यप के गुरूर को तोड़ने और उसके पुत्र भक्त प्रह्लाद की आश्था के जीतने की कहानी याद दिलाता है।
होली पर हिरण्यकश्यप की बहन होलिका भक्त प्रह्लाद को गोद में लेकर आग में बैठ गई थी, उसे वरदान प्राप्त था कि आग उसे जला नहीं सकती लेकिन अधर्म का साथ देने की वजह से होलिका जल गई और भक्त प्रह्लाद बच गए।

 

हिरण्यकश्यप को उसके पापों की सजा देने के लिए और उसका अंत करने के लिए भगवान स्वयं नृसिंह अवतार के रूप में पृथ्वी पर उतरे और अपने नखों से उसका पेट चीर कर उसका वध कर दिया।

भगवान के हाथों मरने की वजह से राक्षस हिरण्यकश्यप को स्वर्ग की प्राप्ति हुई जबकि भक्त प्रह्लाद की आस्था और विश्वास की जीत ने अधर्म के ऊपर धर्म की एक बार फिर स्थापना हो गई। जानिये होली का इतिहास the-history-of-holi

You may also like...

Leave a Reply