1अप्रैल 2018 को मनाई जाएगी लक्ष्मी पंचमी,जानिए व्रत की कथा एवम इतिहास

devotional lakshmi panchami story




लक्ष्मी पंचमी व्रत हिन्दू धर्म के अति महत्वपूर्ण व्रतो में से एक है। लक्ष्मी पंचमी चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाई जाएगी । तदनुासर, वर्ष 2017 का लक्ष्मी जयंती शनिवार 1 अप्रैल 2018 को मनाई जाएगी । इस दिन माता लक्ष्मी की विशेष पूजा की जाती है। भविष्य पुराण के अनुसार लक्ष्मी पंचमी का व्रत करने से धन की प्राप्ति होती है। devotional lakshmi panchami story  




लक्ष्मी पंचमी व्रत कथा

भविष्य पुराण के अनुसार एक बार माता लक्ष्मी देवताओ से रुष्ट होकर क्षीर सागर में प्रविष्ट कर गयी। तत्पश्चात समस्त देवता लक्ष्मी विहीन हो गए। समस्त लोको में हाहाकार मच गया। तत्पश्चात स्वर्ग के स्वामी इंद्र देव ने एक कठोर तप तथा विशेष विधि-विधान द्वारा माता लक्ष्मी जी की पूजा की थी। devotional lakshmi panchami story 

यह देखकर समस्त देव, ऋषि तथा दानवो ने माता लक्ष्मी की पूजा की थी। अपने साधको की भक्ति से माता लक्ष्मी प्रसन्न हुई एवम पूजन समाप्ति के पश्चात माता लक्ष्मी पुनः उतपन्न हुई। माता लक्ष्मी चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की पंचमी को पुनः उतपन्न हुई थी। अतः इस दिन माता लक्ष्मी पंचमी मनाई जाती है।   devotional lakshmi panchami story 

लक्ष्मी पंचमी व्रत एवम पूजन विधि  devotional lakshmi panchami story 

हिंदू धार्मिक मान्यता अनुसार चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्थी के दिन स्नान करने के साफ-सुथरे वस्त्र पहनना चाहिए। तत्पश्चात, भगवान विष्णु-लक्ष्मी की पूजा करे। इस दिन रात्रि में चावल और दुग्ध से बने पदार्थ का भोजन करे। पंचमी के दिन स्नान कर पवित्र हो। devotional lakshmi panchami story 

चैत्र पूर्णिमा का महत्व एवम इतिहास

इसके पश्चात माता लक्ष्मी की पूजा तांबे, चांदी से लक्ष्मी जी की कमल के फूल सहित प्रतिमा सहित पूजा करे। माता लक्ष्मी जी की पूजा अनाज, गुड, अदरक, फल, फूल, धुप, दीप आदि से करे। लक्ष्मी जयंती प्रत्येक माह मनाई जाती है परन्तु इस व्रत को प्रारम्भ करने के लिए चैत्र माह की लक्ष्मी पंचमी दिन से करे तथा विधिवत एक वर्ष तक करे। ततपश्चात, व्रत का उद्यापन कर दे।   devotional lakshmi panchami story 

लक्ष्मी पंचमी  व्रत फल  devotional lakshmi panchami story 

भविष्यपुराण के अनुसार विधि-विधान पूर्वक लक्ष्मी जयंती को करने से व्रती को माता लक्ष्मी के कृपा से लक्ष्मी लोक में स्थान प्राप्त होता है। इसके आलावा जो स्त्री इस व्रत को विधि पूर्वक करती है उसे सौभाग्य, रूप, संतान, तथा धन एवम वैभव की प्राप्ति होती है। इस तरह माता लक्ष्मी पंचमी की कथा सम्पन्न हुई। प्रेम से बोलिए माता लक्ष्मी जी की जय।  devotional lakshmi panchami story 
( प्रवीण कुमार )

loading…


You may also like...