काँवर यात्रा की कथा एवं इतिहास kanwar-yatra-2016-time-schedule-and-history

kanwar-yatra-2015भगवान शिव देवों के देव महादेव को गंगा जल चढ़ाने की प्रथा सदियों पुरानी मानी जाती है इसी प्रथा को हर वर्ष श्रावण माह के कृष्ण पक्ष में गंगा जल भरकर चौदस शिवरात्रि के दिन अलग अलग शिव मंदिरों में जल चढ़ाया जाता है जिसे काँवर यात्रा या काँवर मेला कहा जाता है। kanwar yatra 2016 time schedule history
इस अवसर पर श्रद्धालु देश के विभिन्न कोणों से नजदीकी गंगा घाट से काँवर में जल भर कर पैदल यात्रा कर प्रमुख शिव मंदिर में शिवरात्रि को जल समर्पित करते है।

 

बाबा वैद्यनाथ धाम का इतिहास व कथा kanwar yatra 2016 time schedule history

बाबा वैद्यनाथ धाम बारह ज्योतिर्लिगों में प्रमुख कामना लिंग के रूप में विश्व विख्यात है। इनका एक नाम बाबा धाम भी है। भारत देश के झारखण्ड राज्यांतर्गत देवघर जिला में यह पावन स्थान अवस्थित है। द्वादस ज्योतिर्लिगों में प्रमुख रूप से इनकी पूजा तो होती ही है ,साथ ही साथ इक्यावन शक्ति पीठों में भी प्रमुख हिरद्यापीठ के रूप में भी प्रशिद्ध है बाबाधाम। देवताओं के वैद्य अश्वनी कुमार को रोग मुक्त करने के कारण इन्हें बैद्यनाथ महादेव कहते हैं। चिता भूमि में निवास करने के कारण यह स्थान तांत्रिकों के लिए अधिक आकर्षण का केंद्र मना जाता है। रावण के द्वारा यहां लाये जाने एवं भोले बाबा के वरदान के कारण i इन्हे रावणेश्वर महादेव के नाम से पूजा जाता है। kanwar yatra 2016 time schedule history
त्रेता काल में महान शिव भक्त रावण भगवान भोले नाथ को प्रशन्न करने के लिए कठिन तपश्या किया। वह अपना शीश काटकर कर जब महादेव को अर्पित करने लगा तब भगवान भोले नाथ ने प्रशन्न होकर रावण को दर्शन दिया और उन्हें वरदान भी मांगने को कहा। वरदान में रावण ने महादेव से लंका चलने का निवेदन किया। इसके बाद महादेव ने रावण को एक ज्योतिर्लिङ् दिया और इसके साथ ही यह भी निर्देश दिया की इस शिव लिंग को कहीं रखना मत। आगे शिव ने ये भी कहा कि जहां भी इस शिव लिंग को रखोगे ये वही स्थापित हो जाएगा। देवताओं के बीच हाहाकार मच गया ,उसके बाद विष्णु भगवान के कहने पर माता पार्वती ने रावण से आचमन करने को कहा जिसमे आचमन के समय वरुण देव रावण के पेट में चला गए। जिसके कारण kanwar yatra 2016 time schedule history

उनको बहुत ही असहनीय लघु शंका लगी। दैव योग से रावण जब इस स्थान पर जहां सती की हृद्द्य गिरी थी वहां जब पहुंचा तो रावण को एक चरवाहा नजर आया। उसने उसे शिवलिंग अपने हाथ में रखे रहने को कहा। लेकिन अधिक देर लगने के कारण चरवाहा बने विष्णु भगवान ने शिव लिंग को निचे में रख दिया और अंतर्ध्यान हो गए। कहा जाता है पवित्र होने के लिए रावण ने वही अपनी मुक्के का प्रहार करके एक तालाब का निर्माण किया जो शिव गंगा के रूप में आज भी यहां बिद्यमान है। माता पार्वती के मंदिर और बैद्यनाथ मंदिर के बीच कपड़े के पटवाइश बांधे जाते हैं। वैसे तो ये sal भर होता है लेकि शिव रात्रि के अवशर पर इसे मुख्य रूप से बाँधे जाते हैं। इस मंदिर के प्रांगण में और भी कई देवी देवता का मंदिर बना हुआ है जिसमें प्राचीन कल की दिव्य मूर्तियां रखी हुई है। जहाँ दूर दूर से साधक आकर अपनी इच्छानुसार साधना आदि करते हैं। सावन के महीने में यहां देश विदेश से कांवरिया कांवड़ लेकर सुल्तानगंज भागलपुर बिहार के उत्तर वाहिनी गंगा से कांवड़ लेकर यहां यानि बाबाधाम आतेहै। खासकरके सावन के महीने में यहां भाड़ी मेला लगता है ,जो नवरात्र तक चलती है। भक्त दण्ड प्रणाम देते ,डाक कांवड़ ,खड़ा काँवर,एवं साधारण काँवर लेकर भक्ति में नाचते गाते १०५ किलो मीटर की यात्रा तय करने के बाद यहां पहुंचते हैं। यहां आधी परिक्रमा ही की जाती है। जो काँवर नही लाते हैं वो चंद्रकूप का जल बाबा को अर्पित करते हैं। kanwar yatra 2016 time schedule history

The Shravni Mela Haridwar Kanwar yatra Time schedule  2015
FromToDateStream
Harki Poudhi Haridwar Ganga Snan and Jal Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiManglaur1 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Manglaur Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiPurkaji2 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Purkaji Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiMuzaffarnagar3 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Muzaffarnagar, Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiKhatauli4 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Khatauli Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiDaurala5 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Daurala, Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiFazalpur Meeruth6 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Fazalpur Meeruth, Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiMuradnagar7 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Muradnagar Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiRajNagar Gaziyabad8 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
 RajNagar Ghaziyabad Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiGhazipur Boarder9 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Ghazipur Boarder Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiSaraikalekhan10 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Saraikalekhan Yatra, Bhajan, Ganga and Shiv AartiKalkaji Mandir11 Aug 06 AM To 06 PMLive /1 hour delay
Kalkaji Mandir Yatra, Bhajan, Ganga, Shiv Aarti and Jal SamarpanJal Samarpan Shivratri Mahotsav12 Aug 06 AM To13 Aug 02 AMLive

काँवर यात्रा कथा एवं इतिहास,  पंचांग- kanwar-yatra-2016-time-schedule-and-history
ये वायरल हुई ख़बरें भी पढ़ें


You may also like...

3 Responses

  1. July 4, 2016

    […] काँवर यात्रा की कथा एवं इतिहास kanwar-yatra-2016-t… […]

  2. July 4, 2016

    […] काँवर यात्रा की कथा एवं इतिहास kanwar-yatra-2016-t… […]

  3. July 10, 2017

    […] कांवर यात्रा की कथा एवं इतिहास […]

Leave a Reply