28 जून 2018 को है आषाढ़ पूर्णिमा,जानिए व्रत की कथा एवम इतिहास

know ashadh purnima story



हिन्दु धर्म के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह में पूर्णिमा का व्रत रखा जाता है। तदनुसार आषाढ़ माह की पूर्णिमा व्रत रविवार 28 जून 2018 को पूर्णिमा व्रत मनाया जायेगा। आषाढ़ पूर्णिमा के दिन गुरु पूर्णिमा भी मनाई जाती है। आषाढ़ पूर्णिमा व्यक्ति विशेष के लिए अति महत्वपूर्ण है। know ashadh purnima story  

आषाढ़ पूर्णिमा का महत्व know ashadh purnima story

आषाढ़ पूर्णिमा के दिन गुरु पूर्णिमा भी मनाई जाती है। अतः इस दिन श्रद्धालु नदियों में स्नान करते है। देवताओ और गुरुओ की पूजा करते है, तथा अपने सामर्थ्यानुसार दान-दक्षिणा गुरु, ब्राह्मणों, एवम जरुरतमंदो को दान देते है।
इस दिन पवित्र नदियों के तट पर गुरु-शिष्यों की भीड़ उमड़ती है, कई जगह सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है गुरु की महिमा और ज्ञान के बारे में संगोष्ठी किया जाता है। know ashadh purnima story  




आषाढ़ पूर्णिमा पूजन-दान विधि know ashadh purnima story  

इस दिन ब्रह्म मुहूर्त काल में उठें, दैनिक कार्य से निवृत होकर संभव हो तो पवित्र नदी की जलधारा में स्नान करना चाहिए। तत्पश्चात सूर्य देव को अर्घ्य दें। इस दिन सत्यनारायण पूजा करने का उल्लेख हिन्दू धार्मिक ग्रंथो में है। अतः भगवान विष्णु जी की पूजा फल, फूल, दूर्वा,अक्षत, आदि से करना चाहिए। know ashadh purnima story  

आषाढ़ अमावस्या की कथा एवम इतिहास

पूजन सम्पन्न होने के पश्चात समकालीन गुरु की पूजा श्रद्धा भाव से करना चाहिए। गुरु को सामर्थ्य अनुसार दक्षिणा देकर उनसे आशीर्वाद प्राप्त करना चाहिए। इस प्रकार आषाढ़ पूर्णिमा की कथा सम्पन्न हुई। प्रेम से बोलिए भगवान विष्णु जी की जय।

( प्रवीण कुमार )

loading…


You may also like...