20 अप्रैल 2018 को है शंकराचार्य जी की जयंती,जानिए गुरु शंकराचार्य जी की जीवनी

adi_shankaracharya_wallpaper




जगत गुरु आदि शंकराचार्य का जन्म वर्तमान में केरल राज्य के कालड़ी में एक नबुन्दरी ब्राह्मण परिवार में 788 ईसा पूर्व में हुआ था। आदि शंकराचार्य एक महान दार्शनिक एवम हिन्दू धर्मगुरु थे। इस वर्ष आदि शंकराचार्य जयंती रविवार 20 अप्रैल  2018 को है। know guru shankaracharya life story 

हिन्दू धार्मिक ग्रंथो के अनुसार आदि शंकराचार्य को भगवान शंकर का अवतार माना जाता है। आदि शंकराचार्य अद्वैत वेदान्त के संस्थापक और हिन्दू धर्म के प्रचारक थे। आदि शंकराचार्य सनातन धर्म के जीर्णोद्धार में लगे रहे उनके प्रयासों से हिन्दू धर्म को एक नव चेतना प्राप्त हुई। know guru shankaracharya life story 




आदि शंकराचार्य’ जन्म कथा know guru shankaracharya life story 

शिवगुरु नामपुद्रि एवम उनकी पत्नी विशिष्टादेवी को जब विवाह पश्चात कोई संतान की प्राप्ति नही हुई तब इन्होने दीर्घ काल तक पुत्र प्राप्ति के लिए भगवान शंकर की कठिन तपस्या तथा पूजा की जिससे भगवान शंकर जी अति प्रसन्न होकर एक रात उनके स्वप्न में आकर बोले, मांगो वत्स क्या चाहिए तुम्हे। know guru shankaracharya life story 

शिवगुरु ने भगवान शंकर जी से एक दीर्घायु सर्वज्ञ पुत्र की कामना व्यक्त की। तब भगवान शंकर जी ने कहा कि वत्स ये कामना पूर्ण नही की जा सकती है। तुम या चाहे तो सर्वज्ञ पुत्र की कामना करो, अथवा दीर्घायु पुत्र की कामना करो। know guru shankaracharya life story 

तदोपरांत शिवगुरु ने सर्वज्ञ पुत्र के लिए प्रार्थना की जिसे भगवान शंकर जी ने स्वीकार कर बोले मैं स्वंय पुत्र रूप में तुमहारे घर पर जन्म लूंगा। इस प्रकार भगवान शंकर जी के वरदान अनुसार वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की षष्ठी को शिवगुरु को पुत्र की प्राप्ति हुई। जिसका नाम शंकर रखा गया। know guru shankaracharya life story 

मासिक दुर्गाष्टमी की कथा एवम इतिहास

शैशव काल में शंकर अर्थात शंकराचार्य ने संकेत दे दिया कि वे सामान्य बालक नही है। सात वर्ष की अवस्था में शंकर ने सम्पूर्ण वेदो का पूर्ण अध्ययन कर लिया था। बारहवें वर्ष में पूर्ण शास्त्र वेता हो गए तथा सोलह वर्ष की उम्र में इन्होने शताधिक ग्रंथो की रचना कर डाला। शंकर अपने इन्ही महान कार्यो के लिए आदि गुरु शंकराचार्य नाम से प्रसिद्ध हुए। know guru shankaracharya life story 

आदि शंकराचार्य जयंती महत्व know guru shankaracharya life story 

आदि शंकराचार्य जयंती के दिन मंदिरो और मठो में पूजन हवन किया जाता है। सनातन धर्म के अनुयायी इस दिन विशेष कार्क्रम का आयोजन करते है। इस अवसर पर शोभा यात्राएं निकाली जाती है। जिसमे बड़ी संख्या में श्रद्धालु गण भाग लेते है। know guru shankaracharya life story 

शोभा यात्रा के समय श्रद्धालु भजन कीर्तन करते है। जिसमे वैदिक विद्वानो द्वारा सस्वर गान प्रस्तुत किया जाता है। इस प्रकार आदि शंकराचार्य जयंती की कथा सम्पन्न हुई। प्रेम से बोलिए भगवान शंकर जी के रूप आदि गुरु शंकराचार्य की जय। know guru shankaracharya life story 
( प्रवीण कुमार )

loading…


You may also like...