16 जुलाई 2018 को है कर्क संक्रांति,जानिए व्रत की कथा एवम महत्व

know karka sankranti importance




कर्क संक्रांति का हिन्दू धर्म में विशेष महत्व है। भगवान सूर्यदेव का एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करना संक्रांति कहलाता है और जब भगवान सूर्यदेव कर्क राशि में प्रवेश करता है तो इसे कर्क संक्रांति कहते है।

इस वर्ष कर्क संक्रांति रविवार 16 जुलाई 2018 को मनाया जायेगा। कर्क संक्रांति के दिन पूजा, जप, दान का बड़ा ही महत्व है। इस दिन किये गए दान-पुण्य से कई गुना फल प्राप्त होता है। कर्क संक्रांति के काल में भगवान शिव जी की पूजा विधान है। know karka sankranti importance 

भगवान सूर्य know karka sankranti importance 

भगवान सूर्य देव के ‘उत्तरायण’ होने को ‘मकर संक्रान्ति’ तथा ‘दक्षिणायन’ होने को ‘कर्क संक्रान्ति’ कहा जाता है। हिन्दू धार्मिक ग्रंथो के अनुसार श्रावण माह से पौष माह तक भगवान सूर्यदेव उत्तरी छोर से दक्षिणी छोर की यात्रा करते है।

पद्मा एकादशी की कथा एवम इतिहास

कर्क संक्रांति में दिन छोटे तथा रातें लम्बी होती है। वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार ‘उत्तरायण’ काल देवताओं के लिए दिन एवम ‘दक्षिणायन’ काल देवताओं के लिए रात्रि होती है। इस प्रकार ‘उत्तरायण’ को ‘देवयान’ तथा ‘दक्षिणायन’ को ‘पितृयान’ कहा जाता है।



कर्क संक्रांति का महत्व know karka sankranti importance 

कर्क संक्रांति से वर्ष ऋतू का आगमन होता है। इसी समय से देवताओं का चातुर्मास प्रारम्भ हो जाता है। धार्मिक मान्यता अनुसार इस अवधि में देवताओं की रात्रि प्रारम्भ हो जाती है। अतः चातुर्मास में को भी शुभ कार्य ना करने का विधान है। कर्क संक्रांति के अवधि में भगवान विष्णु जी का चिंतन-मनन करना शुभ माना गया है। अतः भगवान विष्णु जी की पूजा करना चाहिए। know karka sankranti importance

संक्रान्ति पूजन know karka sankranti importance

श्रावण माह शिव जी को समर्पित है। इस माह में भगवान शिव जी एवम माता पार्वती की विधि पूर्वक पूजा करने से विवाह, संतान, सौभाग्य में वृद्धि होती है। भगवान शिव जी की पूजा गंगाजल, बेलपत्र, भांग, धतूरा, आदि से करना चाहिए।

इसके अतिरिक्त प्रत्येक मंगलवार को मंगलागौरी का व्रत भी करना चाहिए। माता की कृपा से व्रती को मनोवांछित फल की प्राप्ति होती है। इस प्रकार कर्क संक्रांति की कथा सम्पन्न हुई। प्रेम से बोलिए भगवान भोले शंकर की जय। know karka sankranti importance  
( प्रवीण कुमार )

loading…


You may also like...