29 अप्रैल 2018 को है कुर्मा जयंती,जानिए कथा एवं इतिहास

devotional kurma jayanti history





कुर्मा जयंती यानी कच्छप अवतार की अवधारणा को पूर्ण करने की तिथि है वैशाख पूर्णिमा। आज के ही दिन दशावतार के दूसरे अवतार ,भगवान् विष्णु के दूसरे अवतार कच्छप अवतार देवताओं की रक्षा एवं दानवों के संहार के लिए हुआ। इसी अवतार के कारण समुद्र मंथन और जीवन दायनी शक्तियों का प्रादुर्भाव हुआ। इस वर्ष बुधवार 29 अप्रैल 2017 को कुर्मा जयंती मनाई जाएगी। devotional kurma jayanti history 

इस अवतार ने प्रकृति के जीव धारी तत्वों को जीवन दायनी शक्ति प्रदान की। इस ब्रह्माण्ड में सबसे पहले जल जीव आये। इसका प्रमाण मीन अवतार है। परमात्मा ने अपनी विराटता के विज्ञानं को बढ़ाया और उसे इस लायक बनाया जो जल और थल दोनों में समान रूप से जीवन व्यतीत कर सके। जैसे कारण के बिना कार्य नही होता है वैसे भगवान विष्णु का अवतार यह कूर्म अवतार है। devotional kurma jayanti history 



आज बुद्ध जयंती भी है

देवता दानव की लड़ाई की कहानी कौन नही जानता है देवताओं का हारना और दानवों का जीतना। इसका मतलव है दानव विकास के वाधक तत्व हैं ,वधाओं को पार करना देवत्व है। इसके साथ ही कूर्म अवतार यह भी साबित करता है की भगवान उसका सहायता करते हैं जो की वास्तव में सहायता चाहता है। devotional kurma jayanti history

देवताओं के प्रार्थना पर भगवान विष्णु ने इस अवतार को धारण किया। मंदराचल पर्वत को अपने पीठ पर उठाया जिससे समुद्र मंथन सम्भव हो सका। जीत से उपजी अहंकार ने दानवों को वासुकी नाग के मुखाग्नि में जला दिया। इतनी कुर्वानी के बाद 14 रत्न निकले। अमृत के खोज में बिष का जब सामना हुआ तब महादेव को सामने प्रत्यक्ष रूप में आना पड़ा। उसके बाद अमृत की प्राप्ति हुई। devotional kurma jayanti history 

जानिए रामकृष्ण परमहंस जी की जीवनी

अब अमृत के लिए लड़ाई शुरू हो गया। पुनः भगवान विष्णु मोहनी बनकर देवताओं को अमृत एवं दानवों को मदिरा पान करवाकर देवताओं में अमृत बांटकर उन्हें अमर कर दिया। वैशाख पूर्णिमा का ये दिन कई मायने में महत्वपूर्ण है। आज बुद्ध जयंती भी है। भगवान बुद्ध को विष्णु जी के चौबीसवें अवतार के रूप में माना जाता है। devotional kurma jayanti history 

आज लोग पवत्र नदियों में स्नान दान आदि कर के महापुण्य के भागी बनते हैं। तो ये हंख सकते हैं की आज कुर्मा जयंती के दिन हम ये संकल्प लें की संसार के रक्षा के लिए जिस प्रकार भगवान् विष्णु ने कूर्म अवतार धारण करके समुद्र मंथन में सहयोग किया उसी प्रकार हमें भी यथासंभव जगत हीत हेतु कार्य करना चाहिए। devotional kurma jayanti history 

( हरि शंकर तिवारी )

loading…


You may also like...