List Of Festivals In April

लक्ष्मी पंचमी व्रत हिन्दू धर्म के अति महत्वपूर्ण व्रतो में से एक है। लक्ष्मी पंचमी चैत्र माह में शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाई जाएगी । तदनुासर, वर्ष 2017 का लक्ष्मी जयंती शनिवार 1 अप्रैल 2018 को मनाई जाएगी । इस दिन माता लक्ष्मी की विशेष पूजा की जाती है

धार्मिक धारणा है की हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश की पूजा से प्रत्येक शुभ कार्य आरम्भ किया जाता है। भगवान गणेश जी को विघ्नहर्ता भी कहा जाता है

वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह में कृष्ण पक्ष की अष्ठमी को कालाष्टमी मनाई जाती है। तदनुसार, बुधवार 8 अप्रैल 2018 को कालाष्टमी है

हिन्दु धर्म के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह में पूर्णिमा का व्रत रखा जाता है। तदनुसारसोमवार 10 अप्रैल  2018 को चैत्र पूर्णिमा मनाया जाएगा। चैत्र माह की पूर्णिमा का व्रत करना बेहद शुभ माना जाता है।

वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत मनाया जाता है। तदनुसार, माघ माह में कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी रविवार  14 जनवरी 2018 को प्रदोष व्रत मनाया जाएगा

सोमवार  15 जनवरी 2018 को मासिक शिवरात्रि है। हिन्दू धर्म में मासिक शिवरात्रि का भी विशेष महत्व है। जहाँ वर्ष में एक महाशिवरात्रि मनाया जाता है वही वर्ष के प्रत्येक महीने में एक मासिक शिवरात्रि मनाया जाता है।

डॉ. भीमराव अंबेडकर का जन्म 14 अप्रैल 1891 ई को हुआ था। लोग इन्हे बाबासाहेब के नाम से भी जानते है। भारतीय संविधान की रचना में इन्होने महत्वपूर्ण योगदान दिया था।

हिन्दू धार्मिक ग्रंथो के अनुसार वैशाख माह में अमावस्या के दिन वैशाख अमावस्या मनाया जाता है।

पौराणिक शास्त्रो के अनुसार वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया को देवी मातंगी जयंती मनाई जाती है। तदनुसार इस वर्ष शनिवार 18 अप्रैल  2018 को मातंगी जयंती मनाई जाएगी।

हिन्दू धर्म में वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया को परशुराम जयंती मनाई जाती है। तदनुसार इस वर्ष शुक्रवार 18 अप्रैल  2018 ई को परशुराम जयंती मनाई जाएगी।

पौराणिक ग्रंथो के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृतीया कहते है। तदनुसार, इस वर्ष अक्षय तृतीया शुक्रवार 18 अप्रैल  2018 को है।

धार्मिक धारणा है की हिन्दू धर्म में भगवान श्री गणेश की पूजा से प्रत्येक शुभ कार्य आरम्भ किया जाता है। भगवान गणेश जी को विघ्नहर्ता भी कहा जाता है।सनातन धर्म में 24 दिन ऐसे होते है जो पूर्णतः भगवान गणेश की आराधना के लिए समर्पित है।

जगत गुरु आदि शंकराचार्य का जन्म वर्तमान में केरल राज्य के कालड़ी में एक नबुन्दरी ब्राह्मण परिवार में 788 ईसा पूर्व में हुआ था।

वेदो, पुराणो एवम शास्त्रो के अनुसार वैशाख मास की शुक्ल पक्ष की सप्तमी को गंगा सप्तमी मनाई जाती है। 

धार्मिक मान्यताओ के अनुसार वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी को माँ बगलामुखी का अवतरण दिवस कहा जाता है। 

हिन्दू धर्म में दुर्गापूजा और दुर्गाष्टमी का बड़ा महत्व है। दुर्गापूजा आश्विन माह में मनाया जाता है जबकि मासिक दुर्गाष्टमी प्रत्येक माह 

वेदो, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार वैसाख मास में शुक्ल पक्ष की नवमी को माता सीता प्रकट हुई थी । अतः इस दिन सीता नवमी मनाई जाती है। 

वेदों, पुराणों एवम शास्त्रों के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह के दोनों पक्षों की त्रयोदशी को प्रदोष व्रत मनाया जाता है। तदनुसार, माघ माह में कृष्ण पक्ष 

हिन्दू पंचांग के अनुसार वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को नृसिंह जयंती मनाई जाती है। तदनुसर इस वर्ष गुरूवार 28 अप्रैल 2018 को नृसिंह जयंती मनाई जाएगी। 

कुर्मा जयंती यानी कच्छप अवतार की अवधारणा को पूर्ण करने की तिथि है वैशाख पूर्णिमा। आज के ही दिन दशावतार के दूसरे अवतार ,भगवान् विष्णु के दूसरे अवतार कच्छप अवतार देवताओं की रक्षा 

हिन्दु धर्म के अनुसार वर्ष के प्रत्येक माह में पूर्णिमा का व्रत रखा जाता है। तदनुसार गुरुवार 21 अप्रैल २०१६ को वैशाख पूर्णिमा मनाया जाएगा।