Tagged: history

devtional chatha puja vrat

13 नवंबर 2018 को है छठ पूजा जानिए व्रत की कथा एवं महत्व

छठ महापर्व परमात्मा के प्रत्यक्ष पूजा का सर्व श्रेष्ठ उदाहरण है। छठ पूर्णतया प्रकृति रूपी परमेश्वर के द्धारा मानव को दिए गए विशेष वरदानों को पाने का पावन पर्व है। इस पवित्र ब्रत के...

know gurunanakdev life story 0

गुरुनानक जयंती का महत्व एवं इतिहास. gurunanak jayanti history and story

गुरु नानक जी (पंजाबी: ਗੁਰੂ ਨਾਨਕ) (15 अप्रैल 1469 – 22 सितंबर 1539)  सिख धर्म के प्रथम गुरु (आदि गुरु ) तथा सिख धर्म के संस्थापक  है। गुरु नानक जी जिन्हे लोग गुरु जी,...

0

27 अक्टूबर 2018 को है Karwa Chauth, जानिए व्रत की कथा एवं महत्व

              Karwa means “pot of water” and chauth means “fourth” Karwa Chauth is the most famous festival among married women or unmarried who desire for the longevity of their...

0

वट सावित्री पूजा वर पूजा की कथा एवं इतिहास

वट सावित्री पूजा का शुभ योग बनता है। वैसे अमावस्या और पूर्णिमा चंद्र कैलेंडर में त्योहारों से अधिकांश एक ही दिन पर हो जाता हैं। पूर्णिमा कैलेंडर को मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, मध्य...

0

शनि जयंती का इतिहास व कथा history and story of shanidev jayanti

शनिदेव की जयंती शनि अमावस्या के रूप में जाना जाता है। शनि देव सूर्यदेव केबेटा पुत्र हैं। हमारे देश में उत्तर भारत के लोग में शनि जयंती पुर्णिमा कैलेंडर के अनुसार ज्येष्ठ माह के...

devotional vithobha history 0

विठोबा का इतिहासिक महत्व history-of-vithoba-importance

विठोबा, विट्ठल, और पांडुरंग, तीन नामों से पुकारे जाने वाले भगवान विट्ठल महाराष्ट्र, कर्नाटक, गोवा, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश के भारतीय राज्यों में मुख्य रूप से पूजे जाते हैं, भगवान विट्ठल, को आम तौर...

0

माँ कामयख्या देवी मंदिर का इतिहास history-of-maa-kamaykya devi temple

51 शक्तिपीठों में प्रमुख स्थान रखने वाली माँ कामयख्या देवी का मंदिर बेहद खूबसूरत और अपनी एक अलग संस्कृति को लिए हुए भारत वर्ष के पर्वोत्तर में स्थित है। इस मंदिर की महत्वता की...

0

महाशिवरात्रि का इतिहास history-and-satory-of-mahasivaratri

महाशिवरात्रि पर्व की कथा क्या है इस सम्बन्ध में धर्म ग्रन्थ एवं इतिहास क्या कहता है इसका क्या महत्व है इसे मानाने का क्या विधि है और कैसे मनाया जाता है आज हम आपको...

0

जानिये यमुनोत्री का इतिहास history-of-yamunotri

यमुनोत्री मंदिर गढ़वाल हिमालय के पश्चिम में समुद्र तल से 3235 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। हिंदू भगवान यम के साथ हिंदू देवी यमुना की एक मूर्ति मंदिर में विराजमान है। यम को...

0

बद्रीनाथ मंदिर का इतिहास history-of-badrinatha-mandir

बदरीनाथ मंदिर , जो बदरी नारायण मंदिर नाम से भी जाना जाता है , वह अलकनंदा नदी के किनारे उत्तराखंड राज्य में स्थित है। यह मंदिर भगवान विष्णु के रूप बदरीनाथ को समर्पित है।...

devtional chatha puja vrat katha 0

13 अक्टूबर 2018 को है छठ पूजा जानिए व्रत की कथा एवं महत्व

छठ महापर्व परमात्मा के प्रत्यक्ष पूजा का सर्व श्रेष्ठ उदाहरण है। छठ पूर्णतया प्रकृति रूपी परमेश्वर के द्धारा मानव को दिए गए विशेष वरदानों को पाने का पावन पर्व है। इस पवित्र ब्रत के...

0

सीता जन्मभूमि स्थान पुनोडा सीतामढी का इतिहास history-of-sita-mata-janmabhumi-sthana-punoda-sitamadhi

सीतामढी जो कभी सीता मड़ई और सीता मई या मयी कहलाती थी। कहा जाता है की जगत जननी माता जानकी का जन्म या प्रकाट्य इसी स्थान में हुआ था। प्राचीन काल में यह मिथिला...

0

पापहरणी लक्ष्मी नारायण मंदिर का इतिहास history-of-papaharani-laksmi-narayaṇa-mandira

पापहरणी लक्ष्मी नारायण मंदिर, बिहार प्रान्त के बांका जिला अंतर्गत बौंसी नगर में स्थित है जो प्रसिद्ध मंदार पर्वत की तराई में अस्थित है। पर्वत के तराई में स्थित यह पावन पवित्र तालाब अपने...

0

लव कुश वाल्मीकि आश्रम का इतिहास history-of-lave-kusha-valmiki-asrama

बाल्मीकि नगर जो वर्तमान में बिहार प्रान्त के अंतर्गत राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय सीमाओं को छूती एकदूसरे से गले मिलते बिहार, नेपाल और उत्तर प्रदेश केबीच बाल्मीकि नगर का यह स्थान महर्षिबाल्मीकि स्थान के नाम से...

2

अंजनी महादेव का इतिहास history-of-anjani-mahadev

हिमाचल की उत्तंग शिखरों पर ,मनाली की मनोरम वादियों ,अभिनव अमरनाथ यानी अंजनी महादेव की अद्भुत छवि विराजमान है। समुद्र तल से ६००० फिट की ऊंचाई पर अवस्थित एक अनुज अमरनाथ ही है। यहाँ...

0

पाण्डवला मंदिर गुडगाँव का इतिहास history-of-pandvala-temple-gurgaon

हरियाणा प्रान्त दिल्ली एन.सी.आर में पड़ने वाला गुडगाँव कभी गुरु ग्राम के नाम से जाना जाता था। द्वापर काल मे कुरु वंश के गुरु द्रोणाचर्य यही रहकर पांडवों और कौरवों को शिक्षा देने का...

0

केदारनाथ चार धाम का इतिहास history-kedarnath-chardham-yatra

केदारनाथ की कथा प्राचीन काल से चली आ रही है। हिमालय शिव को सदा ही प्रिय रहा है। जिस प्रकार से केदार की घाटी अपनी मनोरम छटा बिखेरती है ठीक उसी प्रकार से यह...

0

बौद्ध धर्म का इतिहास history-of-boudhism-religion

गौतम बुद्ध का जन्म ५६३ ईस्वी पूर्व और मृत्यु ४८३ ईस्वी पूर्व में हुआ था। विश्व के प्राचीनतम धर्मों में से एक बौद्ध धर्म है जिसके परिवर्तक गौतम बुद्ध थे । शाक्य नरेश शुद्धोधन...

0

जानिये होली का इतिहास the-history-of-holi

होली का पर्व आते ही रंग और गुलाल की आभा गालों पर खुद ब खुद खिल जाती है। साल 2015 की होली इस बार मार्च महीने की 6 तारीख को पड़ रही है। वैसे...

0

चार धाम यात्रा का इतिहास history-of-char-dhama-yatra

1. उत्तराखंड के चार धाम – उत्तराखंड के चार प्रमुख धामों में सबसे पहली यात्रा जो सूचि में आती है वह हैं यमुनोत्री ,दूसरी हैं गंगोत्री ,तीसरे हैं केदारनाथ और चौथे बद्रीनाथ। हिमालय की...